हरदोई। डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने देश की एकता अखण्डता के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया: सौरभ मिश्र

हरदोई। जनसंघ के संस्थापक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि पर बृहस्पतिवार को जिला भाजपा कार्यालय के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में भाजपा नेताओं द्वारा उनके चित्र पर माल्यार्पण, पुष्पार्पण व दीप प्रज्वलन कर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्हें याद किया गया। 

जनसंघ के संस्थापक, प्रखर राष्ट्रवाद के प्रबल समर्थक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि को बलिदान दिवस के रूप में मनाते हुए जनपद के सभी मंडलों अंतर्गत सभी बूथों पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित कर भाजपा कार्यकर्ताओं ने उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किया। डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि पर जिला भाजपा कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम को जिला अध्यक्ष सौरभ मिश्र ने संबोधित करते कहा कि श्रद्धेय डॉक्टर साहब ने जम्मू कश्मीर की समस्या को पहचाननें तथा इसके समूल निस्तारण के लिए पुरजोर आवाज उठाई थी।

बंगाल विभाजन की परिस्थित के बीच भारत के हितों का पक्षधर बनकर अगर कोई खड़ा हुआ तो वह डाक्टर मुखर्जी ही थे। आजादी के बाद सत्ता में आई कांग्रेस द्वारा देश पर थोपी जा रही कुत्सित विचारधाराओं का तार्किक विरोध कर भारत, भारतीय तथा भारतीयता के विचारों के अनुरूप देश को राजनीतिक विकल्प देने वालों में डॉक्टर मुखर्जी थे। 

एक देश में दो विधान, दो निशान, दो प्रधान का प्रबल विरोध करने वाले और इसके लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले डॉक्टर मुखर्जी को भाजपा की मोदी सरकार ने धारा 370 हटा कर सच्ची श्रद्धांजलि है। देश की एकता और अखंडता के लिए उनके सर्वोच्च बलिदान को तथा भाजपा के प्रत्येक कार्यकर्ता के संकल्प को मोदी सरकार ने फलीभूत किया है। इस अवसर पर जिला भाजपा कार्यालय परिसर में भाजपा नेताओं द्वारा वृक्षारोपण भी किया गया।

आई एन ए हरदोई डेस्क