हरदोई। यहां की जनता ने मेहमानों का भी किया इस्तकबाल दाउद अहमद को पिहानी और सुशीला सरोज को बेनीगंज से बनाया सांसद अपनी विधान सभा की छोड़ दूसरी विधानसभा से चुनाव जीतने वाले भी बहुत।

--विजय लक्ष्मी सिंह 


हरदोई। अतिथि देवो भवः, जनपद के मतदाताओं ने संस्कृत के इस सूत्र को चरितार्थ कर के दिखाया है। जनपद में चुनाव लड़ने आए मेहमानों को चुनाव जिता कर ऐसी मेजबानी की जो इतिहास के पन्नों में अमिट हो गई। गैर जनपदों से आकर यहां चुनाव लड़ने वालों को निराश नहीं किया, पिहानी विधानसभा के मतदाताओं ने दाउद अहमद को विधायक बनाया तो वहीं बेनीगंज सुरक्षित सीट से सुशीला सरोज विधायक बनीं। 2007 विधानसभा चुनाव में लखनऊ निवासी दाउद अहमद को बहुजन समाज पार्टी तत्कालीन सपा सरकार में कैबिनेट मिनिस्टर व कद्दावर नेता अशोक बाजपेयी के विरुद्ध चुनाव मैदान में उतार दिया। 

सुशीला सरोज

लगातार तीन चुनाव जीतते आ रहे अशोक बाजपेयी को भरोसा था इस बार भी चुनाव मैदान में उनकी नैया पार होगी। पर दाउद अहमद ने 51184 वोट पाकर चुनाव जीत लिया, अशोक बाजपेयी को 48591 वोट ही मिले। 1993 विधानसभा चुनाव में बेनीगंज विधानसभा में भी कमोबेश कुछ ऐसा ही नजारा था। क्षेत्रीय राजनीति के रामपाल वर्मा लगातार तीन चुनाव जीत चुके थे। लोकप्रियता का आलम ऐसा कि उनकी जीत को नकारना असंभव सा था। समाजवादी पार्टी ने प्रयोग के तौर पर सुशीला सरोज को चुनाव मैदान में उतारा। गोरखपुर में जन्मी और लखनऊ को कर्मभूमि बना चुकी सुशीला सरोज ने चुनाव लड़ा और तकरीबन 38. 83 फीसदी मत पाकर 8926 मतों से चुनाव जीता। कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे रामपाल वर्मा को तीसरा स्थान ही मिल सका। 

दाउद अहमद

जनपद में अपनी विधानसभा छोड़ कर दूसरी विधानसभा से चुनाव लड़कर जीतने वालों की संख्या भी कम नहीं है। 2017 के चुनाव में रजनी तिवारी ने अपने चुनाव में खुद के लिए वोट नहीं कर सकी पर शाहाबाद की जनता ने मेहमान नवाजी करते हुए उन्हे रिकार्ड मतों से जीत करवाई। सांडी से प्रभाष कुमार और राजकुमार अग्रवाल संडीला से जीते जरूर, पर दूसरी विधानसभा क्षेत्र के निवासी होने के नाते अपने लिए वोट नहीं कर सके। ऐसे ही श्याम प्रकाश, राजेश्वरी, उपेंद्र तिवारी, वीरेंद्र वर्मा, अनिल वर्मा, गंगा सिंह चौहान, गंगा भक्त सिंह, शारदाभक्त सिंह, विपिन बिहारी को अलग अलग विधानसभा क्षेत्र की जनता ने कई विधायक बनाया पर वो अपने लिए वोट नहीं कर सके।

आई एन ए हरदोई डेस्क