पराक्रम दिवस के रूप में मनाई गई नेता जी की जयंती

पराक्रम दिवस के रूप में मनाई गई नेता जी की जयंती
पिहानी। राजकीय महाविद्यालय पिहानी में राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के द्वारा नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की 125वीं जन्मजयंती पराक्रम दिवस के रूप में मनाई गई।इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम में नेता जी की प्रतिमा पर महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो.मंगल किरण ने माल्यार्पण करते हुए संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए नेता जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि नेता जी का जीवन दर्शन मातृभूमि के लिए त्याग एवम संघर्ष का अप्रतिम उदाहरण है।
उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित छात्रों को सम्बोधित करते हुए कहा कि हमे भी नेता जी के जीवन से सीख लेकर स्वार्थ से ऊपर उठकर देश के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर करना चाहिए।।इस अवसर पर कार्यक्रम अधिकारी प्रो.कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने भी संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए नेता जी के जीवन परिचय पर प्रकाश डाला और कहा कि आजाद हिन्द फौज के कमांडर की हैसियत ब्रिटिश शासन से नेता जी ने न केवल युद्ध लड़ा बल्कि आजाद हिंद फौज का गठन भी किया।
जिसे जापान,जर्मनी समेत कई देशों ने मान्यता दी।नेता जी का सम्पूर्ण जीवन पराक्रम एवम शौर्य की वीर गाथा है। हमे उनके जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए।इस अवसर पर डॉ. सुरेंद्र कुमार, डॉ माला पाठक,वरिष्ठ सहायक मनोज मिश्रा,एनएसएस वालंटियर एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।
आईएनए न्यूज़ एजेंसी, डेस्क हरदोई।